विविध

उसूल - गुलरेज़ शहज़ाद

उसूलन के सूली पर लटकल
लम्हर छरहर दिन
रात के करिया समुन्दर में
डूब गइल,आ
कुंवार भोरहरिया रांड़ हो गइल

--------------------------

अंक - 22 (7 अप्रैल 2015)

लेखक परिचय:-

कवि एवं लेखक
चंपारण(बिहार)
E-mail:- gulrez300@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.