विविध

हंस करना नेवास अमरपुर में - भीखम राम

हंस करना नेवास अमरपुर में।
चलै ना चरखा, बोलै ना ताँती
अमर चीर पेन्है बहु भाँती।। हंस......।।


गगन ना गरजै, चुए ना पानी
अमृत जलवा सहज भरि आनी।। हंस......।।

भुख नहीं लागे, ना लागे पियासा,
अमृत भोजन करे सुख बासा।। हंस......।।

नाथ भीखम गुरु सबद बिवेका
जो नर जपे सतगुरु उपदेसा।। हंस......।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.