विविध

चइत महीनवां - आदित्य दूबे

धरती के गोदिया भरइली हो रामा चढते फगुनवा....
अइले सुहावना दिनवा हो रामा चइत महीनवां

बगिया मे कुहु कुहु गाबे कोयलिया
फुलवन प भवरा मड़इले हो रामा...चइत महिनवा....

सर सर सर चले पछुवा बयरिया
तन मन मोरा अलसइले हो रामा....चइत महिनवा....

बेला चमेली जूही अड़हुल गुलाब के
बन बन फुलवा फुलइले हो रामा....चइत महिनवा..
..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.