विविध

चलत-चलत मोरा पईया पिरइले - महेन्द्र मिश्र

चलत-चलत मोरा पईया पिरइले, ए ननदिया मोरी रे
तबहूं ना मिलेला उदेश, ए ननदिया मोरी रे।

अपने न अइलें पिया भेजलें ना सनेसवा, ए ननदिया मोरी रे।
भेज देले डोलिया कहार, ए ननदिया मोरी रे।

संग के सखी सब छोड़के परइलीख्ए ननदिया मोरी रे।
जात अकेले डरवा होय ए ननदिया मोरी रे।

टोला परोसा मिली डोलिया चढ़वले ए ननदिया मोरी रे।
डाल देले सवुजी ओहार ए ननदिया मोरी रे।
छूटल जाला बाबा के दुआर, ए ननदिया मोरी रे।

-------------------------------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.