विविध

फगुनवाँ गउवाँ में आइल - जगदीश पंथी

चइती फसिल गदराइल, फगुनवाँ गउवाँ में आइल,
धरती पियरकी रंगाइल, फगुनवाँ गउवाँ में आइल।

पेड़वा पुरनकी पतइया गिरावै
नई-नई कलंगी से देहिया सजावै
पछुआ बयरिया रसाइल, फगुनवाँ गउवाँ में आइल।

‘पिउ-पिउ’ पपिहरा कोइलिया के बोली
भउजी के आइल दुअरवा पर डोली
मुनियाँ के सुदिन धराइल, फगुनवाँ गउवाँ में आइल।

चंग-मृदंग धमार खोरी-खोरी
उड़ै अबीर गुलाल चारी ओरी
रंगवा में नेहिया पगाइल, फगुनवाँ गउवाँ में आइल।

अमवाँ बउरइले महुइया मोजराइल
सगरो सिवनवाँ वसंती रंगाइल
रतिया वन्दनिया हेराइल, फगुनवाँ गउवाँ में आइल।
--------------------------------------
जगदीश पंथी
अंक - 91 (02 अगस्त 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.