विविध

पिंहके परनवा - देवेंद्र आर्य

पिंहके परनवा


आइ गइल चइत महिनवा हो रामा पिंहके परनवा। 

चिठिया लिखवलीं , सनेसवा पढवलीं 
आधी आधी रतिया ले रहिया रखवलीं 
नाहीं अइलें हमरो सजनवां हो रामा पिंहके परनवा। 

बेलिया फुलाले , चमेलिया फुलाले 
केतनो जतन करीं बात छितराले 
पिया बिन सून मोर दियना हो रामा चइत महिनवा। 

गेहुआं के बलिया से डोले मोरा जियरा 
अंखिया पर हमरे पिरितिया के पहरा 
कब सच होइहें सपनवा हो रामा पिंहके परनवा। 

जस जस छिटकेले चइत अंजोरिया 
मन अकुलाय , बाढ़े बिरह उमिरिया 
नाहीं अइलें कउने करनवा हो रामा हमरो सजनवां। 
---------------------------------------

लेखक परिचय:-


नाम: देवेन्द्र आर्य
पता: ए - 127, आवास विकास कालोनी 
शाहपुर, गोरखपुर – 273006
मोबाइल: 09451565241 आ 09794840990
मेल: devendrakumar.arya1@gmail.com



अंक - 76 (19 अप्रैल 2016)

2 टिप्‍पणियां:

  1. कमाल के चइता भइल बा .. आ आगे के रचना से जवन सोंध गन्ध आवऽता जे मन मताइल बा.
    हार्दिक शुभकामना, देवेन्द्र भाईजी.
    सादर

    उत्तर देंहटाएं

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.