विविध

चइत महिनवाँ - चन्द्रशेखर प्रसाद ‘परवाना’

पोर-पोर टूटे बदनवाँ हो रामा
चइत महिनवाँ॥

नाया-नाया पेन्हि पेंड़ अंग छलकावे
मधुरस फुलवा से भौंरा छलकावे
हरसेला सभके परनवाँ हो रामा।
चइत महिनवाँ॥

जाने कहाँ सरसो के चुनरी हेराइल
तिसिया के खुतवा में घुँघरू छिंटाइल
गोहुँवा के खनके कँगनवाँ हो रामा।
चइत महिनवाँ॥

पुरुवा बयरिया ले आवे
भोरे-भोरे कगवा मुड़रेवा जगावे
मदमातल वा नयनवाँ हो रामा।
चइत महिनवाँ॥

धीरे-धीरे पौ फाटे उतरे किरिनिया
होत संहलौके पसरे चननिया
नीक लागे दुअरा अँगनवाँ हो रामा।
चइत महिनवाँ॥
------------------------
चन्द्रशेखर प्रसाद ‘परवाना’
अंक - 76 (19 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.