विविध

कर बर भगती मानव तन पाके - भगती दास

कर बर भगती मानव तन पाके।

दाल निर्हले, भात निर्हले हदर्दी लगा के
चौका भीतर मुरदा निरहले खात बारे सराह के।

मातपिता से करुआ बोले, मेहरी से हरखा के 
पड़ जइबे नरक का घेरा, मू जइबे पछता के।

कहीले भगतीदासजी बहुत तरह समझा के
मारेलगिहें जमुइया, तबरोए लगबे मुँह बा के।
--------------------------------
भगती दास
अंक - 70 (8 मार्च 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.