संपादकीय

अंजोरिया - रामविचार पाण्डेय

                1

टिसुना जागलि अपना कृस्न जी के देखे के त,
अधी रतिये खाँ उठि चलली गुजरिया।
चान का निअर मुँह चमकेला रधिका के,
चम-चम चमकेले जरी के चुनरिया।
चकमक-चकमक लहरि उठेले ओमें,
मधुरे-मधुरे डोले कान के मुंनरिया।
गोखुला के लोग इ त देखि के चिहइले कि,
राति में आमावसा का उगली अंजोरिया।
                      *****

                   2

फूल का सेजरिया पर सूतल कन्हइया जी,
सपाना देखेले कि जरत दूपहरिया।
ओकरे में हमरा के राधिका खोजति बाड़ी,
फेड़ नइखे, रूख नाहीं, जल बा कगरिया।
कहताड़ी-’धाव कृष्ण, धाव कृष्ण, आव तनी,
हमके देखा द आजु गोखुला नगरिया;
‘अइलीं राधे, अइलीं राधे’ कहिके जे उठेले त,
एने फूलले कमल, ओने चढ़ली अंजोरिया।
                     *****

                   3

‘हमके बोला लीतू तू अइलू हा कइसे हो,
बड़ी भाकासावनी भइली बा अन्हरिया।
कंसवा के घूमत राकस बटमार बाड़े,
गोकुला में होति कबो-कबो बाटे चोरिया।’
‘सभ के ठगेल कृष्ण, हमके भोराव जानि,
हाथ हम जोरिले करीले गोड़धरिया।
हृदया में जेकरा त तूहीं बइसल बाड़,
ओकरा खातिर ई अन्हरियो अंजोरिया।’
                     *****

                4

‘थाकल तू होइबू राधे आव तनी बइस ना,
एही पलंगरिया पर हमरे कगरिया।’
‘तनवा के करिया त जनमें से भइल तूं,
मनावाँ के काहे के बनत बाड़ करिया।
अबहीं जो जाइके जशोदा जी से कहिदीं त,
भलीं तरे आइके करसु पीठि फोरिया।’
‘अउरी त कुछऊ कह तनइखी राधा रानी।
तनी करिया के उजर बनाव ए अंजोरिया।’
                     *****
----------रामविचार पाण्डेय
अंक - 20 (24 मार्च 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.