संपादकीय

भुलाई त कइसे - सुशांत शर्मा

केहू आज दिल से भुलाई त कइसे
हिया से कहीं दूर जाई त कइसे।

कजरवा से चाहे लिखे प्रेम पोथी
कि लोरवा से पाती लिखाई त कइसे।

बड़ी सांकरी प्रेम के ई गली बा
कि ए में तिहाला समाई त कइसे।

मुंडेरवा पर चिरई चुरुंग नाही बइठे
महलिया बतावs सजाईं त कइसे।
-----------------------------------
सुशांत शर्मा



 




अंक - 114 (10 जनवरी 2017)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.