विविध

कइसे बताईं बेबसी अँखियन का लोर के - वैदेहीशरण 'बनियापुरी'

कइसे बताईं बेबसी अँखियन का लोर के,
के ले गइल करेज के कनखा खँखोर के।

कतना बनल आकाश में आशा के ताजमहल,
अब बुझ गइल चिराग सब सोहिला सहोर के,

पपनी के पीर बढ़ गइल प्रीतम का गाँव में,
देखल गुनाह हो गइल बेबस चकोर के।

कश्ती डूबल सनेह के संदेह झील में,
सपना सहेजल झूठ बा सावन का भोर के।

जिनगी जवान नाहके जंजाल में फँसल,
अब कब तलक बइठल रहब रहिया अगोर के।

बेसब्र दिल के इम्तहाँ कतना कोई करी,
तोहफा में दर्द बा मिल आँसू चभोर के।
-----------------------------------------
वैदेहीशरण 'बनियापुरी'


 





अंक - 110 (13 दिसम्बर 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.