विविध

बड़ा नीक लागै - जगदीश पंथी

रुनुक-झुनुक बाजै पायल तोर पँउआ, बड़ा नीक लागै -
ननद तोर गँउआ, बड़ा नीक लागै

देवरा निहारै पीपर झरै पाती
हमरी उमिरिया फरै दिन-राती
गरवा में नेहिया के लागत गरँउआ, बड़ा नीक लागै -
ननद तोर गँउआ, बड़ा नीक लागै

कोंइया खिलै मोरे मन के तलइया
भँवरा भइल बा ननद तोर भइया
रहि-रहि पुकारेला नान्‍हे के नँउआ, बड़ा नीक लागै -
ननद तोर गँउआ, बड़ा नीक लागै

भोरहीं सिवाने में बिरहा सुनाला
साँझे दलानी रमायन गवाला
ससुरू गढ़इता के बाजे खँड़उआ, बड़ा नीक लागै -
ननद तोर गँउआ, बड़ा नीक लागै

घरवा के पच्छिम आम के बगइचा
पुरुब पड़ोसिन बिछावैं गलइचा
अँगना में निबिया कै झखनार छँउआ, बड़ा नीक लागै -
ननद तोर गँउआ, बड़ा नीक लागै

उत्तर निहारीं त नइहर देखाला
दक्खिन पहाड़े क झरना सुनाला
बहतै सुहावत बा पंथी के ठँउआ, बड़ा नीक लागै -
ननद तोर गँउआ, बड़ा नीक लागै
---------------------------------
जगदीश पंथी


 





अंक - 110 (13 दिसम्बर 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.