संपादकीय

करे अगवानी - फतेहचन्द ‘बेचैन’

करे अगवानी कोइल बगिया में गाइके
भौंरा गुनगुनाये डाली फूलवन पर जाइके।

रहिया बोहारे ली बसन्ती ई बयरिया
सरसों संवारे पीयर चदरा बिछाइ के।

गोहुंवा के बलिया करेला अठखेलिया
तीसीया मगन नीला गोटवा लगाइके।

सपना में पिया जब लउके आधी रतिया
तन-मन जरावे बिरहिन के जगाइके।

मस्ती में गावे सभे गाँव के छोकरवा
ढोल, मृदंग, झाँझ अउरी डफरा बजाइके।

मोहक सुगन्धवा से भरि दिहले बगिया
अमवा के मोजरा से रस बरसाइके।
-----------------------------------

लेखक परिचय:-

नाम: फतेहचन्द ‘बेचैन’
जनम: 20 जनवरी 1949
जनम थान: डूहा, डाखाना - डूहा बिहरा
जिला – बलिया उप्र

अंक - 106 (15 नवम्बर 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.