संपादकीय

नया दिन आवत बा - रामदेव द्विवेदी ‘अलमस्त’

नया दिन आवत बा
देख दुनिया बदलत जाता
नया दिन आवत बा॥


निसिभेद रात गइल
फरिछ बिहान भइल
हँसत किरिनियाँ भोरे
सोनवाँ लुटावत बा॥
नया दिन.....


जाग जाई लोग सब
जाग जाई सोग सब
आई कहिया जोग ऊहो
काग उचरावत बा॥
नया दिन.....

कइसन-कइसन बाबू लोग
त्यागि राज-सुख-भोग
नेता जी कहावे खातिर
टोकरी उठावत बा॥
नया दिन.....

मलहा के छौंड़ा अबके

बोलत नइखे तनिको दबके
उड़त चिल्ह-गड़िया पर
कनखी चलावत बा॥
नया दिन.....

पहिला रवैया-काज
छोड़ ‘अलमस्त’ आज
गाव गीत जइसन युग
बँसिया बजावत बा॥
नया दिन.....
--------------------------

लेखक परिचय:-


नाम: रामदेव द्विवेदी ‘अलमस्त’
जनम: 9 अगस्त 1919
जनम थान: मधुबनी दुबे टोला, चम्पारन, बिहार 
रचना: उदयन
अंक - 96 (06 सितम्बर 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.