विविध

सुराज (एक) - जगदीश ओझा ‘सुन्दर’

सगरी बिपतिया के, गाड़ भइलि जिनिगी।
नदी भइल नैना, पहाड़ भइलि जिनिगी।

आग जरे मनवा में, धधकेले सँसिया
असरा में धुआँ उठे, परान चढ़ल फँसिया
देहि के जरौना बा, भाड़ भइलि जिनिगी।
नदी भइल नैना, पहाड़ भइलि जिनिगी।

केहू माँगे घूस, केहू माँगे नजराना
केहू माँगे सूदि मूरि, केहू मेहनताना
कुकुर भइले जुलुमी-जन, हाड़ भइलि जिनिगी।
नदी भइल नैना, पहाड़ भइलि जिनिगी।
----------------------------
जगदीश ओझा ‘सुन्दर’
अंक - 94 (23 अगस्त 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.