संपादकीय

ठीक ना हऽ - सुभाष पाण्डेय

जे फूल से घाही हो ओपर, पत्थर बरिसावल ठीक ना ह।
मन सबके हऽ परभु के मन्दिर, मन्दिर भहरावल ठीक ना ह।

ई जिनिगी हऽ, ए जिनिगी में, कुछ मान मिली, अपमान मिली,
अपमान-मान के चक्कर में, माँथा चकरावल ठीक ना ह।

बेरा अइले नवका- नवका, फल- फूल डाढ़ि पर लगि जाला,
सगरे बा सोरि की किरिपा से, सोरी के सुखावल ठीक ना ह।

धन, धरती, महल, रसूख, रूप, सुख- सम्पति सब चरिदिना हऽ,
ए चारि दिनन की चलती में, अदिमी के सतावल ठीक ना ह।
--------------------------------------------------------

लेखक परिचय:-

नाम: सुभाष पाण्डेय
ग्राम-पोस्ट - मुसहरी
जिला-- गोपालगंज बिहार



अंक - 89 (19 जुलाई 2016)

1 टिप्पणी:

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.