विविध

सवाल पूछेलऽ - कन्हैया यादव

हमके गारी काँहे देलऽ तू सवाल पूछेलऽ

ओठ बाटे लाल, मगहीया पान कूचेलऽ।

आदत तोहार भइया बावे खराब,
तन के कइलऽ तू तऽ बरबाद।
देखलीं उखियाँ में गाजा के फूल तोरेलऽ
हमके गारी काँहे देलऽ तू सवाल पूछेलऽ॥

घर-दुआर गहना बेचलऽ बेचलऽ महुआबारी,
रेल-मोटर गाड़ी में, कइलऽ पाकेटमारी।
लोग-लइकन संगे हमके बिसार दिहलऽ
हमके गारी काँहे देलऽ तू सवाल पूछेलऽ॥
--------------------------------------

लेखक परिचय:-


नाम: कन्हैया यादव
पता: गाँव - रामपुर शीतल, 
पो - नरायनपुर,
जिला - गाजीपुर, उत्तर प्रदेश
पेशा - खेती

अंक - 83 (7 जून 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.