विविध

तोहरा नियर केहू ना हमार बा - जनकवि भोला

तोहरा नियर केहू ना हमार बा॥
देखला प अंखिया से लउकत संसार बा॥

मनवा के आस विश्वास मिलल तोहरा से
जिनिगी के जानि जवन खास मिलल तोहरा से॥

तोहरे से जुड़ल हमार जिनिगी के तार बा
देखला प अंखिया से लउकत संसार बा॥

हेने आव नाया एगो दुनिया बसाईं जा
जिनिगी के बाग आव फिर से खिलाईं जा॥

देखिए के तोहरा के मिलल आधार बा
देखला प अंखिया से लउकत संसार ब॥

दहशत में पड़ल बिया दुनिया ई सउंसे
लह-लह लहकत बिया दुनिया ई सउंसे॥

छोडि़ जा दुनिया आव लागत ई आसार बा 
तोहरा नियर केहू ना हमार बा॥
-------------------------------------- 
अंक - 14 (10 फरवरी 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.