संपादकीय

जनसंगीत - जनकवि भोला

हम चहनी, चाहींला, चाहत बानी
कबहूं तहरे ही खातिर मरत बानी॥

तोहरे पिरितिया के याद में जिनिगिया
निंदवा में अइतू सुनइती हम गीतिया॥

कहां चल जालू निंदवा में खोजत बानी
कबहूं तहरे ही खातिर मरत बानी॥

दिन रात के बाड़ू हो तू ही दरपनवा
जवरे पिरितिया के गाइला हो गनवा॥

काहे जनबू ना जान जनावत बानी
कबहूं तहरे ही खातिर मरत बानी॥

ना देखती कउनो हम कबो सपनवा
शहीदन के हउवे ई प्यारा जहनव॥

अब कउनो ना डर बा जानत बानी
कबहूं तहरे ही खातिर मरत बानी॥
-------------------------------------- 
अंक - 14 (10 फरवरी 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.