संपादकीय

खदेरन के पाठसाला - (दहेज) - लव कान्त सिंह

(गांव के सरकारी स्कूल के ईगो क्लास बा, एह क्लास के लडि़का से मास्टरों साहेब हरान बारें। एजा पढाई के अलावा सब होला मतलब की लग्गी से घास टारल, बकधुनई, बहसबाजी, गोरघिचऊवल, हसी-मजाक आ कबो कबो भूभुन फोड़ऊवल भी --- आज भी मास्टर साहेब पढ़ावत बारें ....कुछ लईका आपसे में बतिया रहल बारें स)

मास्टर साहेब - ए खदेरन नहीं मानेगा का रे फेर बतिया रहा है किसी दिन दिमगवा खराब हुआ ना त मार के पीठ तुड़ देंगे....रोज बतियाता है खाली, उठो खारा होखो आ बताओ की आज का बतिया रहा है...
खदेरन - मस्सायेब हई छेदिया के बेटवा नु हमरा से बतियावेला मंगरुआ...
मास्टर साहेब - तमीज से बोलो नहीं त मार हुडा के घोघ फुला देंगे...बताओ का बतिया रहा है...
खदेरन - मस्सायेब इ कहता की पूरा दुनिया योग करता आ प्रधानोमंत्री योग करेले रोज सुबेरे-सुबेरे...हमनियो के कइल जाई बिहान से... दूका दूका..
मास्टर साहेब - ए मंगरू तुमको भी ढ़ेर बतियाने का सौख हो गया ह त पढने का आते हो? जाओ योगा माहटर बन जाओ।
ढ़ोंढ़ा - ऐ 
मस्सायेब!
 बताई ना योगा माहटर बने के पढ़ाई कहाँ से होला, हम बिहाने जाके नाम लिखवा लेम।
लबेदा - (मुस्कीयात) 
हं
 
मस्सायेब
 ढ़ोंढ़वा संगे हमहू जा के नाम लिखा लेहम जोगा आला में।
मास्टर साहेब - (मुंह चीढ़ावत) जा के नाम लिखा लेम.....बकलोल कहीं के...ऐकरे को कहल जाता है बाप के नाम सागपात आ बेटा के नाम परोर...बाबू कहियो किये हैं योगा कि तुम योगा करोगे.. आयं।
(तब तक खदेरन खाड़ा हो क कहता )
खदेरन - 
मस्सायेब
 रउआ मोबाइल राखिले ?
मास्टर साहेब - हं रखते हैं, अभिए न लिए सात हजार में एक रूपया कम का, 5 इंची का स्क्रीन न है...बाकी काहे पुछ रहे हो ?
खदेरन - काहे राउर बाबूजी कब मोबाइल चलवले रहस जे रउवा चलावत बानी ?
मास्टर साहेब -ढ़ेर बहसोगे त मारते-मारते दम छोड़ा देंगे, चले हो हमसे जबान लड़ाने ...बुझते हो कि नहीं।
(तब तक लबेदा खाड़ा होके कहता )
लबेदा - उ कौनो गलत थोड़े कहत बा, रउआ अनेरे खिसियात बानी। पढ़ावे-लिखावे के चाहीं त लइका स से लइका लेखा बहस करत बानी।
मास्टर साहेब - हं हं ठीक है...चलो तुम्ही खाड़ा होखो और बोलो दहेज प्रथा का है ?
लबेदा - उहे नू जवना में तिलक चढ़ेला...फुलहा हण्डा-तसली...छिपा-गिलास मिलेला...हजाम आंख बन्द करेले त सभे दुल्हा पर अछत फेंकेला...कतना लइका जानबुझ के घर के लइकी पर फेक देवेलें स त मारो हो जाला, सभे के भोज खियावल जाला। जादातर तिलक में पइसा आ समान के फरियवता के कारण तिलक लेट से चढ़ेला तबतक हम सुत जानी ऐसे हमरा बेसी पाता नइखे 
मस्सायेब
मास्टर साहेब - का कहे हम....किसी दिन तुम्हारे बाबूजी से मिलना पड़ेगा।
लबेदा - त ऐमे बाबूजी का क लिहें उहे नू कहेले कि जाके सूत रह हम जातानी नाच देखे, त हम सूत रहेनी...रउआ कहत बानी त अबसे जाग के देखेम कि आउर का-का होला।
मास्टर साहेब - तुम्हारे जइसा दू-चार गो आउर लइका इस स्कूल में हो गया जिस दिन उसी दिन हम नोकरी से रिजाइन मार देंगे....कपार छनछना गया सुन के तुम्हारा जवाब, चलो बइठो.....उठो खदेरन आ बताओ की दहेज के बारे मे का जानते हो...पांच लाइन बोलो।
खदेरन - मस्सायेब, दहेज प्रथा बड़ा खराब दोष ह...कतना दिन से दहेजे के कारण हमरा दीदी के बियाह ठीक ना होत रहे परहे साल हमरा दीदी के बियाह भइल जी आ हमर बाबूजी लडि़का वाला के मांग के हिसाब से 10 कट्ठा खेत बेच के 4 लाख रुपया दे देहलन, खाली फटफटिया ना दियाईल त तिलक लौटत रहे...बड़ा रो-गा के बाबूजी ओह लो के मनाईलें आ बिहान भइला 30 हजार रुपया कजरी के बाबू से सूध पर लियाइल आ दूनू बैल बेच के फटफटिया दियाईल...तब उ बरात लेके अइलें स आ बियाह भइल....माई रोऐले कि बड़ी दिक्कत में बानी स... 1 बीघहा खेत बा चंवर में त दहाईए जाला आ 30 हजार रूपया के सूध बढ़ के 40-45 हजार हो गइल बा...चंवर के खेत बन्हिक ध के सुध भराइल ह, माई इहे सोच में बेमार रहेले आ बाबूजी पईसा कमाए दिल्ली गइल बाडन...गाय बेचाइल बा ओही पइसा से चाउर-दाल किनाला...मस्सायेब एतने पता बा दहेज के बारे में
मास्टर साहेब - (लोर पोछत) अब से तुम्हारा कॉपी किताब का खर्चा हम देंगे...बईठो, मन लगा के पढो...आ बड़ा आमदी बनो। बाकी तुम दहेज मत लेना।
--------------------------------------------------
लव कान्त सिंंह
9643004592









अंक - 74 (05 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.