संपादकीय

नया साल - राम जियावन दास 'बावला'

शुभ-शुभ-शुभ नया साल हो

बासल बयार ऋतुराज क सनेस देत
गोरकी चननिया क अँचरा-गुलाल हो

खेत-खरिहान में सिवान भरी दाना-दाना
चिरईं के पुतवो ना कतहूँ कँगाल हो

हरियर धनिया चटनिया-टमटरा क
मटरा के छेमिया के गदगर दाल हो

नया-नया भात हो सनेहिया के बात हो
एहि बिधि शुभ-शुभ-शुभ नया साल हो।
------------------------

लेखक परिचय:-

नाम: राम जियावन दास 'बावला'
जनम: 1 जून 1922, भीखमपुर, चकिया
चँदौली, उत्तर प्रदेश
मरन: 1 मई 2012
रचना: गीतलोक, भोजपुरी रामायण (अप्रकासित)
अंक - 54 (17 नवम्बर 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.