विविध

घर में देश - भगवती प्रसाद द्विवेदी

सूखि गइल
आँखिन में लहलहात
सपनन के समुन्दर
खूने-खून हो गइल-
सतलज, व्यास, रावी
झेलम, चिनाब के पानी
बेटिन के जवानी
फटाफट बन हो गइल
मए घरन के केवाड़
खिड़की, झरोखा
पाँख पसारि के पसरि गइल
मातमी चुप्पी
गूँजे लागल
दनवा-दईंतन के बूट के दहशत
टूटि पड़लस बेटा
माई के इज्जत लूटे खातिर
उहे बेटा
जवन कबो माई खातिर
खून के धार
पानी नियर बहवले रहलन स
लाज बचवले रहलन स
धाँय-धाँय, ठाँय-ठाँय
रोवा-रोहट आ फरियाद में
मटियामेट हो रहल बाड़न स
गुरबानी के सबद
भींजत लकड़ी के आग नियर
धुँआ रहल बा
गुरमीत कौर आ गुरचरन सिंह के
‘वाहे गुरु’ के विनती
हवा-पानी लेबे खातिर तरसत
अबोध जसवन्त के नइखे होत बोध
सोच में ऊभ-चूभ करत
बढ़त जा रहल बा
ओकरा मन के कलेश
कि आखिर कइसे ऊ मानी
हती चुकी घरे के देश?
----------------











अंक - 49 (13 अक्टूबर 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.