विविध

भोजपुरी लोकधारा

"भोजपुरी लोकधारा"  श्री रसिक बिहारी ओझा 'निर्भीक' जी के लिखल भोजपुरी कऽ शोध आलेख कऽ किताब हऽ जेवना में एगारह गो शोध लेख भोजपुरी भाखा अउरी साहित्य कऽ अलगा-अलगा रुप देखावत अउरी बतीयावत बाड़े सऽ। 
  1. लोक-साहित्य: एगो परिचय 
  2. भोजपुरी कहाउति: एगो सरसरी नजर 
  3. लोक व्यंग्य-विनोद
  4. भोजपुरी लोक-कथा के विस्तार आ ओकर शिल्पगत विशेषता
  5. भोजपुरी लोक-साहित्य में पारिवारिक जीवन के सुन्दर संबंध
  6. भोजपुरी लोक-साहित्य में पारिवारिक जीवन के असुन्दर संबंध
  7. भोजपुरी लोक-कथा में राजनैतिक जीवन के झलक
  8. समाज में नारी के स्थान: लोक-साहित्य के प्रमान
  9. भोजपुरी लोक-कथा में कथानक रुढ़ि आ अभिप्राय
  10. भोजपुरी लोक-साहित्य में धन के महिमा
  11. भोजपुरी भाषा के मानकीकरण: समस्या आ समाधान 
निर्भीक जी ए एगारह गो शोध लेखन के हाथे गोड़े भोजपुरी लोक-साहित्य कऽ रुप रंग दुनिया के सोझा ले आवे के कोसिस कइले बानी। 

लेखक: श्री रसिक बिहारी ओझा 'निर्भीक'
प्रकासक: जमशेदपुर भोजपुरी साहित्य परिषद्
पता: हो नं - 102, जोन नं- 11 बिरसानगर, 

जमशेदपुर, झारखण्ड - 831019
संपर्क सूत्र: 9031719481

------------------------------------------------
अंक - 42 (25 अगस्त 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.