संपादकीय

छिंउकी - मोती बी.ए.

   
     1

सेमर फुलाये
फर लागे
ठोरियावऽ सुगना
    *****

     2

छितिर-बितिर पानी
तराइल ऊँट
बेंग, का ताकेलऽ?!
    *****

     3

हर-फार-हेंगा-जुआठ
उठऽ-उठऽ-
काठ बलमू
    *****

     4

भीत भहराए
छान्‍ही चुए
लइका सुताईं कहाँ !
    *****

     5

जाँते में झींकि
लिलारे पसेना
आजु रोटी मिली
*****

     6

पानी छितराए
अरार टूटे
मन डूबे-डूबे
    *****

     7

का हम खियाईं
आपन माँसु?
मुँआ द हमके!
    *****

     8

ना खर ना पलानी
चान काटे चानी
भैने का माँगेलऽ?
    *****

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.