संपादकीय

कौ ठगवा नगरिया लूटल हो - कबीरदास

कौ ठगवा नगरिया लूटल हो।। टेक।।
चंदन काठ कै वनल खटोलना,
तापर दुलहिन सूतल हो।। 1।।

उठो री सखी मोरी माँग सँवारो,
दुलहा मोसे रूसल हो।। 2।।

आये जमराज पलंग चढ़ि बैठे,
नैनन आँसू टूटल हो।। 3।।

चारि जने मिलि खाट उठाइन,
चहुँ दिसि धू-धू उठल हो।। 4।।

कहत कबीर सुनो भाई साधो,
जग से नाता टूटल हो।। 5।।

-------------- कबीरदास
अंक - 5 (11 सितम्बर 2014)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.